कई बार कुछ कारणों के चलते हमें जॉब छोड़नी पड़ती है। हर किसी का जॉब छोड़ने का कारण भले ही अलग अलग हो, लेकिन लॉन्ग ब्रेक के बाद जब वापिस जॉब ढूंढ़ी जाती है तो इस ब्रेक के चलते हर किसी को परेशानी आती है।

जैसे कभी एक्सपेक्टेड पैकेज नहीं मिलता तो कभी रेलेवेंट जॉब नहीं मिलती है। पर हम आपको बताना चाहते है की यदि आप रेडी हो तो जब चाहे मार्किट में आ सकते हो।

जानना चाहते हो ऐसा कैसे हो सकता है? निचे दी गयी सिंपल टिप्स को फॉलो करे

अपनी स्थिति का आकलन करें

अब जब फाइनली वापिस काम करना शुरू करना चाहते है तो एक बार अपनी स्थिति का आकलन जरूर करले। क्योकि हायरिंग मेनेजर आपसे ना केवल जॉब छोड़ने का कारण पूछेंगे बल्कि आप जॉब वापिस क्यों ज्वाइन करना चाहते है यह भी पूछा जायेगा।

यह सवाल इतने ट्रिकी तो नहो होते है, लेकिन यदि आप इनका जवाब ठीक से नहीं दे पाते है तो आप पर संदेह किया जा सकता है।

पूरी तरह तैयार रहे

आपको काम पर लौटने के लिए खुद को तैयार करना होगा और यह तैयारी केवल शारीरक तौर पर ही नहीं बल्कि मानसिक तौर पर भी करनी होगी। क्योकि बहुत वक्त के गैप के बाद वापिस 9 से 10 घंटे की ड्यूटी करना आसान नहीं होती। हो सकता है शुरुवात में आपको काम करते ना बने, लेकिन आपको स्ट्रॉन्ग बनना होगा।

सही जगह ही आवेदन भरे

जब किसी कारणवश नौकरी में लंबा गैप हो जाता है तो लोग घबरा जाते है और कही भी नौकरी का आवेदन देने लगते है। लेकिन ऐसा ना करे, आपको कहा कहा नौकरी के लिए आवेदन देना चाहिए इसके लिए पहले पूरी प्लानिंग करे।

नौकरी के घंटो, स्थान, जॉब प्रोफाइल सब पर ध्यान दे। क्योकि यदि एम्प्लायर को लगता है की आप अपनी जॉब एप्लीकेशन को लेकर सीरियस नहीं है तो वो लोग ऐसा मान लेते है की आप टेम्परोरी ही जॉब करना चाहते है और वापिस जॉब ब्रेक ले लेंगे। इसलिए वो आपकी जगह दूसरे कैंडिडेट को लेना पसंद करते है।

नेटवर्क बनाये

जब लोग जॉब कर रहे होते है, तब तो सबसे खूब कांटेक्ट में रहते है। लेकिन जहा जॉब छोड़ी वहा सबसे कांटेक्ट ख़तम। चाहे आप जॉब कर रहे हो या ना कर रहे हो, कभी भी लोगो से अपना नेटवर्क न ख़तम करे। जब आप ब्रेक लेने के बाद वापिस जॉब करने के लिए निकलते है तो आपके नेटवर्क के जरिये आपको बहुत मदद मिलती है।

जॉब के सिलसिले में आपके परिवार में जो भी लोग वर्किंग हे उनकी मदद ले, या फिर आपके दोस्तों की मदद ले। हो सकता है की उनकी कंपनी में अगर कोई ओपनिंग हो और वो आपकी फील्ड से मैच करती हो।

कई बार सोशल मीडिया के मदद से आपको कई रेफ्रेंस मिल जाते है। इसलिए सोशल साइट्स जैसे लिंक्डइन आदि पर नेटवर्क बनाये। एक बार आपने सबको ऐड कर लिया फिर कभी अकाउंट खोल कर ही नहीं देखा ऐसा ना करे। सोशल मीडिया पर एक्टिव रहना भी जरुरी नहीं है।

एक अच्छा रिज्यूम है जरूरी

बहुत से लोग सोचते है की नौकरी दिलाने में उनका अनुभव काम आता है ना की रिज्यूमे। लेकिन ऐसा नहीं है आपको जॉब दिलाने में आपका रिज्यूम भी बहुत मदद करता है। अगर आपका रिज्यूम अच्छा हो तो आपको इंटरव्यू के लिए अच्छे कॉल्स मिलेंगे।

आपका रिज्यूम ही आपके पहचान का स्त्रोत है, इसलिए इसे बनाने के लिए भी वक्त दे, काम चलाऊ काम ना करे। लंबे ब्रेक के बाद जब अपनी सीवी को अपडेट करते है तो अपने ब्रेक के बारे में कम से कम लिखे। यह ब्रेक आपको मुश्किल ना दे इसके लिए अपनी सीवी में स्किल्स और एक्सपीरियंस शामिल करे।

आपकी जो भी अचीवमेंट है उन्हें भी रिज्यूमे में डाले, भले ही वो आपको ब्रेक लेने से पहले मिली है लेकिन वो आपकी ही है, जिन्हें आप अपनी सी वी में शामिल कर सकते है।

यदि लिए ब्रेक के दौरान आपने कुछ ऐसा सीखा है जिससे आप एम्प्लायर को इम्प्रेस कर सकते तो उसे भी हाई लाइट कर सकते है।

अपने ब्रेक को लेकर सच बताये

यह बात तो तय है की आपने ब्रेक लिया है तो इंटरव्यू में इस बारे में तो जरूर पूछा जायेगा। यदि आपको कॉन्फिडेंटली इंटरव्यू देना है तो जिस भी कारण से ब्रेक लिया है सच सच बतादे। क्योकि कुछ और कारण बताने के चक्कर में हम कुछ भी बोल देते है और हमारी बातो में कॉन्फिडेंस नहीं दीखता।

लेकिन अगर जॉब छोड़ने का कारण ऐसा है की जिससे इंटरव्यू पर नेगेटिव असर पढता है। तो आप कुछ और कारण बोल सकते है। जो भी आप बोलेंगे सिंपल वर्ड्स में बोले, ज्यादा बढ़ा -चढ़ाकर ना बोले।

इंटरव्यू के लिए पूरी तैयारी करे

यदि इंटरव्यू में सफल होना चाहते है तो इंटरव्यू के लिए अच्छी सी तैयारी करे। बहुत टाइम आप काम से दूर रहे है तो हो सकता है आप कई चीज़े भूल गए होंगे, इसलिए इंटरव्यू देने जाने से पहले एक बार सारी चीज़ों का एक बार ब्रश अप करले। इससे आपको इंटरव्यू देने में मदद मिलेगी और एम्प्लायर को भी लगेगा की भले ही आप ब्रेक पे थी, लेकिन इसका असर आपके काम पर नहीं पढ़ेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here