यदि आपको डांस करना बहुत पसंद है और आप योग करने का सोच रहे है तो नृत्य योग आपके लिए ही है। यह योग और नृत्य का ऐसा सुन्दर मेल है जिसके बारे में केवल जानकर ही उतसाहित हो जायेंगे।

डांस आपको ख़ुशी देता है और फिटनेस भी। वही योग आपको शांति सुकून देता है, साथ ही शरीर को फिट रखने के लिए भी योग के फायदों से हम सभी परिचित है। तो आप खुद ही सोचिये की इन दोनों का मेल आपके शरीर के लिए कितना प्रभावी होगा।

जो लोग व्यायाम से बोर हो जाते है, उनके लिए व्यायाम का यह रूप बहुत अच्छा है। क्योकि डांस किसी को भी बोरिंग नहीं लगता है, आइये हम इसके बारे में और विस्तार से जानते है।

योग डांस (नृत्य योगा) क्या है?

नृत्य योगा को लोग डांस योगा के नाम से ज्यादा जानते है। यह एक ऐसी कला है जिसमे नृत्य करते वक्त, योग के सिधान्तो का ख्याल रखा जाता है।  योग के इस रूप में नृत्य की तीन तकनीको को शामिल किया गया है जैसे बैले, कंटेम्पररी और भारतीय शास्त्रीय।

  • योगा डांस केवल डांसर्स और एथलिट के लिए ही नहीं है बल्कि सबके लिए है। हर कोई इसका अभ्यास कर इसका लाभ उठा सकता है।
  • बहुत सारे एक्टर्स और एक्ट्रेसेस भी इसे करना पसंद करते है।
  • यह न केवल आपको शारीरिक तौर पर मदद करता है बल्कि इससे आपको अविस्मरणीय आध्यात्मिक अनुभव भी मिलता है।
  • यह सुनने देखने में भले ही आसान लगता है, लेकिन इसे सही तरह से करने के लिए आपको योग गुरु की मदद लेनी चाहिए। सीखने के बाद आप घर पर इसे कर सकते है।

आखिर क्यों है यह खास?

आसन करते वक्त आप अपने हाथ पैर मोड़कर, क्रियाए करते है। वही अगर साथ में संगीत की धुन भी हो तो आपका शरीर इसे और अच्छे से कर पाता है। यह परफेक्ट माइंड बॉडी कनेक्शन बनाता है।

नृत्य और योग के बीच बुनियादी समानताएं

  1. योग और नृत्य दोनों का अभ्यास आपके मन को कार्य करने की क्षमता देता है। इसके नियमित अभ्यास से आप ध्यान केंद्रित करना सीखते है।
  2. नृत्य एक धार्मिक गतिविधि है, कहा जाता है यह आपके मन और शरीर को शुद्ध करती है। योग भी लगभग ऐसा ही है यह आपको आध्यात्मिकता से जोड़ता है तथा दिमाग और शरीर दोनों शुद्ध करने की अनुमति देता है।
  3. दोनों के नियमत अभ्यास से वसा कम होता है और वजन नियंत्रण में सुधार होता है। वजन घटाने वाले लोग दोनों का ही चयन करते है।
  4. योग और डांस दोनों के अभ्यास से मांसपेशियों में रक्त की आपूर्ति बढ़ जाती है और ऑक्सीजन का उपयोग करने की क्षमता में सुधार होता है। दोनों को करने से आपके चेहरे पर तेज बढ़ता है।
  5. दोनों शरीर को सुडौल व स्वस्थ बनाए रखने के लिए आव्यशक है क्योकि इन्हें करने से मांसपेशिया टोनो होकर मजबूत बनती है।
  6. सबसे महत्वपूर्ण योग और नृत्य शारीरिक और भावनात्मक तनाव कम कर देता है। इसलिए इनका अभ्यास हर किसी को करना चाहिए।

नृत्य के अभ्यास में इन योगासनों को आप कर सकते है शामिल:-

  • त्रिकोणासन – शारीरिक व मानसिक रूप से मदद करे, पीठ के दर्द से मुक्ति दिलाये
  • उत्कटासन – मन की संकल्प शक्ति बढ़ाये, मांसपेशियां (जांघ ,टांगों, टखने व घुटने) पुष्ट करे
  • अधोमुख श्वानासन – शरीर को शक्ति दे, सिरदर्द- थकान दूर करे
  • सेतुबंधासन – पीठ का पोस्चर सुधारे तथा पीठ दर्द से छुटकारा
  • शवासन – शरीर में स्फूर्ति लाये, शारीरिक तनाव दूर करे

असनार्ते योगाडांस थेरेपी की फाउंडर सोराया फ्रांको ने योग और डांस को मिलाकर सिखाने की शुरुवात की थी। इन्हें UNESCO International अवार्ड भी नवाजा गया है।

चाहे आप अपनी स्ट्रेंथ बढ़ाना चाहते है, अपने शरीर का लचीलापन बढ़ाना चाहते है, यह फिर अपने शरीर और मन में संतुलन लाना चाहते है योगा डांस हमेशा आपके लिए बेहतर विकल्प रहेगा। इसे करके आप खुद को हमेशा बेहतर ही बनाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here