आजकल देश के युवाओ में खुद का बिज़नेस शुरू करने की रूचि बहुत बढ़ रही है। पहले के समय में लोगो को जहा बिज़नेस के बारे में सोचने में जितना समय लग जाता था, आज के समय में उतनी ही समय में लोग अपने बिज़नेस को एस्टेब्लिश कर रहे है। इन्टरनेट के बढ़ते उसे ने यंग युवाओ को बहुत मदद की है।

देखा जाये तो आज का दौर इंटरप्रेन्योर का ही है। और हमारे देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने के लिए नए नए इंटरप्रेन्योर की जरूरत है। क्योकि जब आप जॉब कर रहे होते है तो केवल खुद के लिए जॉब कर रहे होते है। लेकिन जब आप इंटरप्रेन्योर बनते है तो 10 या उससे अधिक लोगो के लिए जॉब का अवसर बना सकते है।

यदि आपके पास भी कोई बिज़नस आईडिया है, या फिर आपकी भी जॉब से ज्यादा बिज़नस में रूचि है तो इस लेख के जरिये आप भी जान सकते है की इंटरप्रेन्योर कैसे बने?

इंटरप्रेन्योर क्या होता है?

जो लोग अपने दम पर अपना बिज़नस खड़ा करते है उन्हें इंटरप्रेन्योर कहा जाता है।  इंटरप्रेन्योर को हिंदी में उधमी भी कहते हैं। बीते समय के अपेक्षा वर्तमान में इसका बहुत बूम देखने को मिल रहा है। सिर्फ कम सैलरी पैकेज वाले ही नहीं मल्टीनेशनल कंपनी में अच्छे सैलरी पैकेज पर काम करने वाले युवा भी अपनी नौकरी छोड़ कर बिज़नेस करने में रूचि दिखा रहे है।

यदि आपके पास अच्छा आईडिया है और आप कठिन मेहनत करने में पीछे नहीं हटते है तो कम उम्र के होने के बाद भी कुछ ही सालो में बड़े बिजनेसमैन को भी पीछे छोड़ सकते है।

इंटरप्रेन्योर बनने के लिए आपके अंदर कौनसे गुण होना चाहिए?

इंटरप्रेन्योर शब्द सुनने में तो बहुत लुभावना लगता है लेकिन जितना ज्यादा लुभावना है उतना ही मुश्किलो से भरा भी। हम आपको बता दे की अगर 100 लोग बिज़नेस के बारे में सोचते है तो उसे सफल करना तो दूर 100 में से 90 लोग तो खुद का बिज़नेस शुरू करने में भी असफल हो जाते है।

इसलिए हम आपको बता रहे है की सफल इंटरप्रेन्योर के अंदर क्या गुण होते है। अगर आपके अंदर यह गुण नहीं है तो आपका इंटरप्रेन्योर बनना ना मुनकिन सा है। लेकिन हां आपमें वाकई इंटरप्रेन्योर बनने की जिद है तो आप अपने अंदर इन गुणों को पैदा जरूर कर सकते है। इंटरप्रेन्योर बनना बहुत चनौती भरा होता है। आइये जानते है कुछ ऐसे गुण जो इंटरप्रेन्योर में पाये जाते है।

Characteristics of an Entrepreneur:-

रिस्क लेने की कैपिसिटी होना जरुरी है

इंटरप्रेन्योर बनने के लिए आपके अन्दर रिस्क लेने की कैपिसिटी होनी चाहिए। हममें से बहुत से लोग कुछ करना तो चाहते हैं, लेकिन हमारे अंदर एक डर सा लगा होता है कि कहीं हमें सफलता नहीं मिले तो जो है वो भी चला जायेगा।

ये डर वाजिब भी है क्योकि लाइफ में कोई भी बड़ा स्टेप हम यूँ ही नहीं ले सकते। इसलिए हम बस यही कहना चाहते है की इस कदम को वही लोग उठा सकते है जिनमे रिस्क लेने की कैपिसिटी हो। जो लोग अपने काम को लेकर बहुत पैशनेट होते है और जिनमे कुछ कर गुजरने की चाहत होती है वे बिना सोचे समझे अपने प्रयासों में लग जाते है।

आपको नौकरी छोड़ना पढ़ती है

इंटरप्रेन्योर बनने के लिए आपको अपनी नौकरी भी छोडनी पड़ेगी क्योंकी इसके लिए आपको पूरा कंसन्ट्रेट अपने काम पर करना होता है। अगर आपके मन में ऐसे सवाल है की नौकरी छोड़ी तो करेंगे क्या?, नौकरी में कम से कम 4 पैसे कमाने की गारन्टी तो है। यदि आपके मन में इसी तरह के सवाल चल रहे है तो फिर शायद आप अभी इंटरप्रेन्योर बनने के लिए तैयार नहीं है।

एक सफल इंटरप्रेन्योर बनने वाले के गुणों की बात करे तो इनके अंतर आत्मा से एक ही आवाज आती है की कुछ बड़ा करना है, अपने सपने को हकीकत में तब्दील करना है।

यह सिर्फ मेहनत करने वालो के लिए है

अगर आप मेहनत नहीं कर सकते है तो ये आपके लिए नहीं है। इसमें सफलता सिर्फ और सिर्फ कड़ी मेहनत से ही मिलती है। हम आपको बता दे की  इंटरप्रेन्योरशिप 8 घण्टे की की जॉब नहीं है, ये 24*7 की जॉब है। इसमें सालो कड़ी मेहनत लगती है, कोई भी एम्पायर रातो रात नहीं खड़ा होता है।

सकारात्मक सोच

सिर्फ बिज़नेस ही नहीं दुनिया के किसी भी कार्य में सफलता पाने के लिए सकारात्मक सोच का होना जरुरी है। उदाहरण के लिए आपने किसी डांस कॉम्पेटीशन में हिस्सा लिया। आप सिर्फ सकारात्मक सोच रहे है की आप जीतेंगे, और इसके लिए आपने कड़ी मेहनत शुरू कर दी है, तो आपके जितने का प्रतिशत बढ़ते जा रहा है।

वही आपने पहले ही हार मान ली है की आप इस कॉम्पेटीशन में जीत ही नहीं सकते, तो आप ना मेहनत करेंगे और ना ही जीतेंगे। नकारात्मक सोच के साथ आप इंटरप्रेन्योर नहीं बन सकते। यदि आपके सोच में ही नकारात्मकता है तो काम में सकारात्मकता आना तो दूर की बात है।

इंटरनेट और टेक्नोलॉजी का अच्छा नॉलेज

एक सक्सेसफुल इंटरप्रेन्योर बनने के लिए आपको इंटरनेट और टेक्नोलॉजी का अच्छा नॉलेज होना जरुरी हो गया है। अगर आपको नहीं है तो आप कम से कम बेसिक नॉलेज इखट्टा करने की कोशिश जरूर करे। आजकल सब कुछ डिजिटल होते जा रहा है, ऑनलाइन बिज़नेस में लोगो को बहुत प्रॉफिट है। इस डिजिटलाईसेशन के वक्त में आपको भी इसी के हिसाब से चलना होगा।

असफलता से डरने के बजाय इसे स्वीकार करना

आप सभी ने बचपन में चींटी वाली कहानी सुनी होगी। की कैसे वो दिवार पर चढ़ने की कोशिश करती है और गिर जाती है। लेकिन वो असफलता से हार नहीं मानती और लगातार कोशिश करती रहती है और आखिर बहुत प्रयासों के बाद शक्कर के दाने साथ दिवार पर करने में सफल हो जाती है।

बस इंटरप्रेनरशिप भी ऐसी ही है, शुरुवात में आपको कई हरे मिलती है। लेकिन हां हर एक हार के साथ आपको मिलता है एक नया अनुभव। अच्छे इंटरप्रेन्योर के लक्ष्य में छोटी हारे कोई फर्क नहीं लाती, उसके लिए उसकी सफलता ही उसका उदेश्य होता है। हम आपको बता दे की गिरने के डर से चलोगे ही नहीं तो आगे कैसे बढ़ोगे।

धैर्य का होना

अगर आपको लगता है की इंटरप्रेन्योर बनकर आप रातो रात करोड़पति बन जायेंगे तो हकीकत में ऐसा नहीं होता है। अगर ऐसा कही होता है तो वो केवल कहानियो में। या फिर करोडो में ऐसे लोग होते है जो बहुत ही कम समय में सक्सेस की सीढ़िया चढ़ जाते है।

किसी भी बिज़नेस को सफल बनने में समय लगता है। इसके लिए आपको कड़ी मेहनत करना होती है और धैर्य रखना होता है। अगर धैर्य शब्द आपकी डिक्शनरी में नहीं तो बिज़नेस आपके लिए नहीं है।

अगर आपके अंदर ऊपर बताये गए गुण है तो आप इंटरप्रेन्योर जरूर बनेंगे। और अगर कुछ गुण आपके अंदर नहीं भी है तो आप इन्हें अपने अंदर ला सकते है। अगर आपने निश्चय ले लिया है तो हम आपको बता दे की आपको बार बार, नयी नयी चनौतियो का सामना करना पड़ता है। आपको एक मुकाम से दूसरे मुकाम तक पहंचने के लिए बड़े बड़े निर्णय भी करने पड़ते है।

यह निर्णय बहुत सोच समझकर करने होते है क्योकि आपका काम किस दिशा में जायेगा यह केवल आपके फैसलों पर निर्भर करता है। लेकिन मेहनत, सकारात्मक सोच के साथ डट के सामने करने वालो की हमेशा जीत होती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here