इस बात से तो हम सभी भली भाँति परिचित है की जीवन में सफलता पाने के लिए सेल्फ़ कॉन्फिडेंस याने की आत्मविश्वास बहुत ज़रूरी है। आत्मविश्वास का मतलब होता है, खुद पर भरोसा रखना।

आत्मविश्वास के बिना सफलता पाना बहुत ही मुश्किल है। क्योकि इसके बिना हमारा जीवन बिल्कुल ऐसा है जिसमे हर जगह डर है। और डर एक ऐसी चीज़ है जो हमे आगे बढ़ने नही देती।

यदि आपके अंदर इंटेलिजेन्स कूट कूट कर भी भरा हो लेकिन यदि आपके पास उसे सबके सामने एक्सप्रेस करने के लिए कॉन्फिडेन्स नही है तो उस नालेज का भी कोई मतलब नही है।

यदि आपने गौर किया हो तो आज के वक्त में जितने भी सक्सेस्फुल लोग है उन सभी में आपको एक चीज़ कामन दिखेगी और वो कुछ और नही बल्कि सेल्फ़ कॉन्फिडेन्स ही है। इसलिए यदि हम यह भी कहदे तो ग़लत नही होगा;

आत्मविश्वास ही सफलता की कुंजी है

आप सेल्फ़ कॉंफिडेंट है या नही कैसे पहचाने?

  • अगर आप अपने बारे में अच्छा सोचते है।
  • आपको अपनी बात सबके सामने रखने में हिचकिचाहट नही होती।
  • आप लाइफ में बड़े फ़ैसले लेने से घबराते नही है।
  • आपको स्टेज पर जाकर स्पीच आदि देने में डर नही लगता।

यदि उपर बताए गये 4 पॉइंट्स में से आपके अंदर 3 पॉइंट्स भी आपसे मैल खाते है तो इसका मतलब आपके अंदर आत्मविश्वास है और आपको लाइफ में आगे बढ़ने में कोई दिक्कत नही आएगी। लेकिन यदि आपके २ पॉइंट्स या इससे भी कम पॉइंट्स है तो आपको खुद पर वाकई काम करने की ज़रूरत है।

आज हम आपको कुछ ऐसी टिप्स बता रहे है जो आपके अंदर आत्मविश्वास बढ़ाने में मदद करेंगी:-

1. भूल जाए क्या होता है शर्माना

यदि आप अपने अंदर आत्मविश्वास जगाना चाहते है तो सबसे पहले शर्माना छोड़ दे। ये आत्मविश्वास को बढ़ाने की सबसे पहली और मुख्य चाबी है। यदि आप शरमाते ही रह गये तो पीछे ही छूट जाएँगे।

इसलिए खुद से आज ही वादा ले की आप बेजिझक अपनी बात कहना सीखेंगे। चाहे फिर वो कोई कॉम्पिटिशन हो या बॉस से अपने प्रमोशन करने की बात।

2. अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखे

यह पॉइंट पढ़ते ही आपके मन में सवाल उठ रहे होंगे की आख़िरकार स्वास्थ्य का कॉन्फिडेन्स से क्या संबंध है। क्योकि आपने ऐसे कई लोगो को देखा है जो बीमार होते हुए भी उनमे आत्मविश्वास है।

दरहसल कुछ लोग बचपन से इतने आत्मविश्वासी होते है की उन पर परिस्तिथि का कोई असर नही होता। लेकिन आपमे यह पहले से नही है। इसलिए स्वास्थ्य का ख्याल रखने वाला रूल आप पर तो लागू होगा।

इसके पीछे का कारण यह है की जब आप स्वस्थ रहते है तो आपका हर कार्य में मन लगता है। और आपमे विश्वास आता है। वही स्वस्थ ना रहने के कारण आपका आत्मविश्वास डगमगाने लगता है।

उदाहरण के लिए यदि आपको छोटी सी सर्दी ही हो जाए तो आप ठीक से बात नही कर पाते, आपकी शकल उतरी उतरी दिखती है। अब आप खुद ही सोच लीजिए स्वास्थ्य का ख़याल रखना ज़रूरी है या नही।

3. ना ही ग़लतियो से डरे ना ही रिस्क लेने से

ना जाने क्यो बहुत से लोग ग़लतिया करने से डरते है। इस कारण से वो लोग किसी भी चीज़ की रिस्क लेते ही नही है। लेकिन आपको समझना होगा की बिना रिस्क लिए, बिना ग़लती किए आप सफलता नही पा सकते।

आप रिस्क ले, क्या हुआ अगर फैल हो गये तो। कम से कम आपको यह तो पता होगा की किस कारण से आप फैल हुए है तो आप अगली बार वो कार्य दूसरे तरीके से करेंगे। और इस तरह अपने फेल्यूर या ग़लती से सीखते सीखते आप सफल हो जाएँगे। लेकिन कुछ ना करने से, ना आपको सफलता मिलेगी ना ही कुछ सीखने को मिलेगा।

4. अपना पहनावा अच्छा रखे

कपड़ो का भी व्यक्ति की सोच पर बहुत असर होता है। कोई आपके बारे भले ही कुछ ना सोचता हो, लेकिन आप खुद अपने बारे में बहुत कुछ सोचते है। यदि आप अच्छे नही दिखते है, तो आप जिस तरह से खुद को लोगो के सामने ले जाते है, या उनसे बातचीत करते है इसका तरीका बदल जाता है। इसलिए आपको अपने कपड़े सही तरह से पहनना है।

उदाहरण के लिए; आपके पास दो सिचुएशन है एक में आपने अच्छे कपड़े पहने है और दूसरे में आपने बिना आइरन किए कुछ तो भी कपड़े पहने हुए है। अचानक से आपके सामने आपका क्रश आ गया तो आप खुद बताइए आप किस सिचुएशन में कॉन्फिडेंट फील करेंगे? हमको इस बात का जवाब देने की ज़रूरत नही है इतना तो आप खुद समझदार है।

इसका मतलब यह नही है की आप कपड़ो पर बहुत सारे पैसे खर्च करे। बस यदि आप साल में 4 कपडे लेते है तो भले ही दो ले, लेकिन अच्छी क्वालिटी के और जो आप पर जचते हो। अच्छी क्वालिटी के कपड़े लंबे समय चलते भी है।

5. सही पोस्चर

कोई व्यक्ति अपने आपको कैसे केरी करता है, यह चीज़ उसके बारे में पूरी कहानी बयां कर देती है। जो लोग धीरे धीरे चलते है, और हमेशा कंधे झुकाए हुए रहते है, वो खुद में आत्मविश्वास की कमी दर्शाते है।

उनकी लाइफ में क्या चल रहा है इससे उन्हे कोई फ़र्क नही पढ़ता, वो खुद को महत्वपूर्ण नही समझते। यदि आप अपने शरीर की मुद्रा सही रखने की कोशिश करते है तो आपके अंदर सेल्फ़ कॉन्फिडेन्स आता है।

हमेशा सीधे खड़ा रहे करे, लोगो से आइ कांटेक्ट बनाए, चलने के तरीके को सुधारे, इससे आपके अंदर आत्मविश्वास झलकेगा।

6. पॉज़िटिव थिंकिंग से जुड़ी किताबे पढ़े

किसी भी फील्ड में सक्सेस पाने के लिए व्यक्ति को मोटिवेशन की ज़रूरत पढ़ती है। पर हर किसी के लाइफ में मोटिवेशन देने वाला व्यक्ति हो यह ज़रूरी तो नही। ऐसे में पॉज़िटिव थिंकिंग जैसी बुक्स पढ़ना चाहिए। इसमे कुछ लोगो की कहानिया भी दी रहती है की कैसे उन्होने अपनी लाइफ को बदला, इससे आपके अंदर भी कुछ करने का आत्मविश्वास आता है।

7. जिन चीज़ो से घबराते है उन्हे बार बार करे

यदि आपमे किसी चीज़ को लेकर डर रहता है जैसे स्टेज पर जाकर कुछ कहने से या बहुत सारे ग्रूप में अपनी बात कहने से, तो उसे बार बार करे। भले ही लोग आप पर हसे लेकिन प्रयास करते रहे। यकीन मानिए बहुत जल्दी इस डर पर आप जीत हासिल कर लेंगे।

8. आइ कांटेक्ट बनाना सीखे

यदि आप दूसरे व्यक्ति से बात करते करते इधर उधर देखते है या फिर नज़रे चुराते है तो इससे ऐसा झलकता है की आपमे आत्मविश्वास की कमी है। यदि आप अपने अंदर आत्मविश्वास भरना चाहते है तो आइ कॉंटॅक्ट बनाकर बाते करना शुरू कर दे। शुरुवात में भले ही आपको थोड़ी दिक्कत हो, लेकिन लगातार प्रयास हमेशा सफलता की और ले जाता है।

9. आपमे कमी निकालने वाले लोगो से दूर रहे

यदि आपको कोई आपकी कमज़ोरी बताता है तो अच्छी बात है आप उसे ठीक कर सकते है। लेकिन यदि कोई हर वक्त ही आपमे नेगेटिव चीज़े ढून्दता रहे तो ऐसे लोगो से आप दूरी बना ले तो ही अच्छा है। क्योकि ऐसे लोगो के कारण भी आपका सेल्फ़ कॉन्फिडेन्स बढ़ नही पाता है।

10. किसी एक चीज़ में बेहतर बने

कोई भी व्यक्ति हर फील्ड में एक्सपर्ट नही हो सकता। लेकिन एक फील्ड में तो यह पासिबल है। इसलिए कम से कम एक फील्ड में एक्सपर्ट ज़रूर बने। चाहे फिर वो म्यूज़िक हो, राइटिंग हो या सॉफ्टवेर डेवेलपमेंट फील्ड हो। एक्सपर्ट बनने के लिए भले ही आपको थोड़ी मेहनत करनी पढ़ेगी, लेकिन यह आपको भीड़ से अलग दिखाने में वाकई मदद करेगी, जिससे आपका कॉन्फिडेन्स बढ़ेगा।

 

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here